रीको के दरवाजे खुले हैं - नवीन महाजन, प्रबंध निदेशक, रीको


मजबूत निर्णय क्षमता, दबंग व्यक्तित्व और बेहतरीन नियोजित कार्यप्रणाली 1997 बैच के आईएएस नवीन महाजन को लीक से हटकर खड़ा करती है। नवीन के मजबूत कंधों को हाल ही प्रबंध निदेशक, रीको की नई जिम्मेदारी सौंपी गई है। रीको में अब नवीन महाजन की योजनाओं में फस्र्ट जनरेशन एंटरप्रेन्योर्स हैं प्राथमिकता पर। खास बातचीत के चुनिंदा अंश-

रीको में आपकी तीन प्राथमिकताएं?
* नए औद्योगिक क्षेत्रों का चयन करना और उन्हें स्थापित करना।
* लोन के संबंध में रीको के पोर्टफोलियो को बढ़ाना।
* रीको को इनवेस्टर फ्रैंड्ली बनाना।


राजस्थान के औद्योगिक विकास को किस रूप में देखते हैं?
बीते कुछ सालों में प्रदेश में सेवा क्षेत्र में तेजी से विकास हुआ है। लेकिन औद्योगिकरण के प्रोत्साहन को लेकर यहां अपार संभावनाएं हैं। सीधे तौर पर देखें, तो राजस्थान में निर्माण से जुझे क्षेत्रों में खासे अवसर विकसित किए जा सकते हैं और इससे प्रदेश के युवाओं को बेहतर रोजगार के विकल्प मिल सकते हैं। इन्हें प्रोत्साहित किया जाएगा।
उद्योगों के प्रोत्साहन के लिए आप किन जरूरी पक्षों का विशेष ध्यान रखेंगे?
कई ऐसे क्षेत्र हैं, जिनके विकास और विस्तार का प्रदेश को सीधे तौर पर लाभ मिलेगा। खनिज, सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, ऑटो व अभियांत्रिकी क्षेत्र, कपड़ा जैसे कई उद्योग हैं, जिनमें राजस्थान के परिदृश्य में बेहतरीन संभावनाएं हैं। सीमेंट, सेरेमिक और ग्लास जैसे क्षेत्रों को भी प्रोत्साहित करेंगे। साथ ही साथ निवेशकों की प्राथमिकताओं का भी पूरा ध्यान रखेंगे।
उद्योगों को गति प्रदान करने के लिए कोई खास मॉडल जिसे आप अपनाना चाहेंगे?
हम बेहतर सुविधाएं मुहैया करवाने में कामयाब हों, इस दिशा में काम किया जाएगा। जमीन से जुड़े मसलों में सरलता लाने के लिए रीको ने बीते कुछ सालों में बेहतरीन काम किया है। इसी प्रणाली को और आगे बढ़ाया जाएगा।
युवा एंटरप्रेन्योर्स के लिए कोई खास प्लानिंग?
युवा एंटरप्रेन्योर्स को प्रोत्साहित करने के लिए रीको नई लोन स्कीम की घोषणा कर चुका है। फस्र्ट जनरेशन एंटरप्रेन्योर्स के लिए रीको के दरवाजे खुले हैं। उनकी लोन संबंधी जरूरतें पूरी करेंगे। नए विचारों को प्रोत्साहित करने के लिए राजस्थान वेंचर कैपिटल फंड बनाया गया है, जो रीको के तहत काम कर रहा है। एंटरप्रेन्योर्स को प्रोत्साहित करने के लिए वेंचर कैपिटल फंड मुहैया करवाए जाएंगे। 
Share on Google Plus

About Officers Times

0 comments:

Post a comment