एमएनआईटी से कुसुम वर्मा पेपर प्रजेंट करने जाएंगी सेन डिएगो



तकनीकी विकास के मामले में विश्व की शीर्ष प्रोफेशनल्स एसोसिएशन आई-ट्रिपल-ई (आईईईई) के एक महत्त्वपूर्ण आयोजन में जयपुर से भाग लेने एमएनआईटी की एसोसिएट प्रोफेसर कुसुम वर्मा सेन डिएगो, यूएसए जाएंगी।
आई-ट्रिपल-ई की ओर से 22-26 जुलाई, 2012 तक 2012 आईईईई पावर एण्ड एनर्जी सोसायटी जनरल मीटिंग का आयोजन किया जा रहा है। इस मीटिंग में कुसुम को 23 तारीख को अपना पेपर प्रजेंट करने बेहतरीन अवसर आई-ट्रिपल-ई ने दिया है। आई-ट्रिपल-ई ने इस मीटिंग की थीम न्यू एनर्जी हॉरिजंस-अपॉच्र्युनिटीज एण्ड चैलेंजेज रखी है। इस मीटिंग में विशेष रूप से पूरी दुनिया से इलेक्ट्रीकल इंजीनियरिंग के विषय विशेषज्ञों को आमंत्रित किया जाता है। इन्हीं विषय विशेषज्ञों में से चुनिंदा को विषय विशेष पर अपना पेपर प्रस्तुत करने का अवसर मिलता है। कुसुम भी उन चुनिंदा विषय विशेषज्ञों में शामिल हैं। यहां कुसुम जनरेटर कोहेरेंसी डिटरमिनेशन इन ए स्मार्ट ग्रिड यूजिंग आर्टिफिशियल न्यूरल नेटवर्क पर अपना पेपर प्रजेंट करेंगी।
गौरतलब है कि आई-ट्रिपल-ई तकनीकी खोज के मामले में प्रोफेशनल्स की दुनिया की सबसे बड़ी एसोसिएशन है। इससे जुड़े प्रोफेशनल्स पूरी दुनिया में अपने विषय पर खास पकड़ के लिए पहचाने जाते हैं। आई-ट्रिपल-ई तकनीकी क्षेत्रों से जुड़े विशेष प्रकाशन, कांफ्रेंस, तकनीकी मानक, व्यावसायिक और शैक्षणिक लिहाज से सर्वाधिक सक्रिय एसोसिएशन माना जाता है। इस एसोसिएशन की स्थापना 1884 में तकनीकी प्रोफेशनल्स के एक ग्रुप के द्वारा की गई थी, जो पहली बार न्यूयॉर्क में औपचारिक रूप में मिला था। अपने शुरुआती दौर में यह अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रीकल इंजीनियर्स के नाम से मशहूर हुआ। इसके संस्थापकों ने पहली बार तकनीकी मंत्रणा फिलेडेफिया में की थी।

Share on Google Plus

About Officers Times

1 comments: