संपादक

देश की खोजपूर्ण पत्रकारिता में खास पहचान रखने वाले प्रवीण जाखड़ ने अपने पत्रकारिता जीवन की शुरुआत राजस्थान पत्रिका, जयपुर से की। शुरुआती दिनों से ही रविवारीय, बॉलीवुड, परिवार परिशिष्ट, चुनाव स्पेशल टीम, बजट स्पेशल टीम में अनुभव लिया। 2005 से पत्रिका के लिए लगातार स्पेशल कवरेज की। नवम्बर 2006 में तेलगी के बाद देश के दूसरे सबसे बड़े स्टाम्प घोटाले का खुलासा किया। विश्वभर में सिगरेट तस्करी (दुनिया की सबसे बड़ी जांच एजेंसी एफबीआई के 54 अति गोपनीय दस्तावेजों का खुलासा किया), विश्व में हीरे की तस्करी, देश में वन्य जीवों की तस्करी, राजस्थान में फर्जी डॉक्टरों के रैकेट का खुलासा, महंगी बिजली की गोलमाल जैसे दर्जनभर बड़े घोटालों का खुलासा किया। देश में पेट्रोल में मिलावट के रैकेट का खुलासा करने की वजह से झाबरमल्ल शर्मा पत्रकारिता पुरस्कार की सर्वश्रेष्ठ खोजपूर्ण रिपोर्ट श्रेणी में राज्य स्तर पर प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया। पत्रकारिता में योगदान के लिए युवा रत्न अवॉर्ड, परम हितैषी अवॉर्ड और महाराजा सूरजमल आउटस्टैंडिंग टैलेंट ऑफ द ईयर अवॉड मिले। पत्रिका की ईयर बुक 2007 के सम्पादन मण्डल का सदस्य रहने के साथ-साथ केसीके इंटरनेशनल अवॉर्ड के लिए कॉर्डिनेटर यूएस व एशिया की जिम्मेदारी संभाली। पत्रकारिता में खास मुकाम हासिल करने वाले प्रवीण जाखड़ ने अपनी सक्रियता की वजह से ही नवम्बर 2009 में गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉड्र्स में नाम दर्ज करवाया। मई 2010 से पत्रिका स्पॉट लाइट (स्पेशल टीम) में अहम भूमिका निभाई। वर्ष 2011 में प्रतिष्ठित आर.ए. पोद्दार इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट से एमबीए (एग्जीक्यूटिव) कोर्स पूरा किया और राजस्थान पत्रिका के वरिष्ठ उप-सम्पादक पद से इस्तीफा देकर एंटरप्रेन्योरशिप में कदम बढ़ा दिए।
मीडिया में अहम योगदान के साथ ही देश-विदेश के प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थानों में विद्यार्थियों को पत्रकारिता में भविष्य और 21वीं सदी में पत्रकारिता में आ रहे बदलावों के संबंध में मार्गदर्शन किया। इन संस्थानों में विशेष रूप से अमेरिका से ताल्लुक रखने वाले अमेरिकन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियन स्टडीज भी शामिल है, जिसके तहत ब्रिटेन, रूस, अफगानिस्तान सहित करीब दर्जनभर देशों के विद्यार्थियों को भारत में हिन्दी पत्रकारिता, उदभव और विकास सहित पत्रकारिता में नव प्रयोग जैसे विषयों पर मार्गदर्शन किया। फिलहाल कई हिन्दी समाचार वेबसाइटों के जरिए ई-पत्रकारिता से जुड़े प्रवीण देश की पहली ब्यूरोक्रेसी आधारित हिन्दी मैग्जीन ऑफिसर्स टाइम्स व साप्ताहिक समाचार पत्र इट्स इंडिया के सम्पादक व प्रकाशक हैं।


Team of Young Entrepreneurs

Praveen Jakhar
Editor & Publisher
e-mail : editor@officerstimes.com
Call : +91 800 300 1100

Jatin Punia
Manager (Marketing)

HR Department
Mayank Sharma
e-mail : hr@officerstimes.com

Legal Advisor
Advocate Bhupendra Singh Shekhawat

Designing
Red Chilli Creations

Channel Partner

Facebook : www.facebook.com/officerstimes
Twitter : www.twitter.com/officerstimes

Corp. Office : 265/05, Sector - 26,
Pratap Nagar, Jaipur - 302033 (Rajasthan) INDIA

Marketing Office : NF/S/6, Nehru Place, Tonk Road, 
Jaipur - 302005 (Rajasthan) INDIA

For Subscription : Subscription Department, 265/05, Sector - 26,
Pratap Nagar, Jaipur - 302033 (Rajasthan) INDIA
Share on Google Plus

About Officers Times

19 comments:

  1. भाई....आपके बारे में आपका नाम ही काफी है...

    ReplyDelete
  2. Dhanraj10:33

    Best One

    ReplyDelete
  3. bhut hi acha pryass h parveeen bhai ............best of luck

    vinod bishnoi
    09829762729

    ReplyDelete
  4. Anonymous14:05

    praveen bhi shubkamnaya. bas tarkki karte raho- madan kalal dainik bhaskar

    ReplyDelete
  5. Anonymous13:42

    We all K.Vians proud of you. Best wishes for your future.
    Indu Bhuria
    Assis.Professor,
    Govt. Engineering College,Bikaner

    ReplyDelete
  6. bahut bhadhai!!!! I am feeling really good to read about a friend in this way!!! May god fulfill all your dreams & desires...

    ReplyDelete
  7. Bhut bhut subhkamnaie.Niranter pragti ke path per ek kadm aage rkhe aap ka ye pryas,
    Rajender sen
    PTI
    Bikaner.

    ReplyDelete
  8. Bhut bhut subhkamnaie

    ReplyDelete
  9. Nice..very nice...
    congrts...SHreesh

    ReplyDelete
  10. aapne news ko naya aayaam diya hai.. ab officers ek manch par honge v aam jnata unke vaktitva ko pahchanegi... with best wishes

    ADV. SHIV KU.AWAR
    9929999996
    awarlawyers@gmail.com

    ReplyDelete
  11. Bahut sari badhai Praveen ji. Achchha laga aapka yeh prayas.

    ReplyDelete
  12. Very Good Idea ! Wish You Very Good Luck !

    ReplyDelete
  13. Wish you better ahead than you good past....c.s.jain (chandra sen jain)8875555021.




    ReplyDelete
  14. Anonymous13:40

    A unique beginning towards a giant objective.
    Mindgym

    ReplyDelete
  15. kafi mehnat ki hai sir apne

    ReplyDelete
  16. you are the best Jakhar Sahab

    ReplyDelete